We have moved to new Web address

We have moved to new web address.
Visit us for more Health Article , Blog Posts, n Lifestyle Tips for Holistic Health.

All blog post from here will be added on this new web address too, so you will not miss any post.

Now onward all new posts will be uploaded on this new address. I hope your supports n love will be continue and you all will be in touch at our new address…!

Visit our new Website … Bookmark it … Subscribe it now….

www.msayurved.com

Dr. Jigar Gor 's Ayurveda Clinic in bhuj

Advertisements

How to we get rid of blackheads and whitehead by Herbs

Maintaining a clear and beautiful skin, takes time, consistency and effort. Dermatologist may recommend lots of products, but some of them can be expensive and may actually take a long time to work. You can, however, incorporate some home remedies for blackheads and whiteheads into your daily beauty regimen and in a few weeks, you will experience a drastic reduction or even total elimination of the problem.

65314_197415203715521_7679436_n

● Tomato – Tomatoes have natural antiseptic properties that dry up whiteheads and blackheads. Peel and mash a small tomato. Apply the tomato pulp to your blackheads and whiteheads before going to bed. Leave the tomato pulp on your face while you sleep and then wash your face in warm water in the morning.

● Lemon -Wash your face in warm water. Then, squeeze the juice of one lemon into a bowl. Add in a pinch of salt and stir the mixture. Apply the mixture to your blackheads and whiteheads. Leave the mixture on for approximately 20 minutes and then wash your face with warm water again.

● Lime – You can also use equal parts of lime juice and cinnamon powder and apply this mixture to blackheads. Leave it on overnight and rinse it off in the morning

● Cornstarch – Mix about a three-to-one cornstarch to vinegar ratio into a paste. Apply it to your problem areas and let sit for 15 to 30 minutes. Remove the paste with warm water and a washcloth.

● Yogurt – Mix three tablespoons of plain yogurt with two tablespoons of oatmeal. Add one teaspoon of olive oil and one tablespoon of lemon juice to the mixture. Stir the mixture thoroughly and apply it to the effective area of the face. Let the mixture sit for five to seven minutes then rinse off with cold water.

● Almond or oatmeal – Mix either oatmeal or almond powder with just enough rose water to make a spreadable paste. Apply it to your problem areas with your fingertips first and then apply it to the rest of your face. Let it set for about 15 minutes and then rinse your face with cold water.

● Rice – Soak rice in milk for 5 hours and then grind this in a blender until it is paste-like in consistency. Use the paste as a scrub on affected areas of the body.

● Potatoes – Grate raw potatoes and then rub the area with the mixture. Wash it off after 15 minutes.

● Fenugreek leaves – Crush some fenugreek leaves and mix with water to form a paste. Put this on the face for 15 minutes and then remove it. Do this every night to keep your face free of blackheads.

● Coriander leaves – Mix some coriander leaves and a little turmeric powder with water and form a paste. Use this as a mask to eliminate blackheads.

● Oatmeal -Grind oatmeal into a powder in a blender and then add some rose water. Use this on affected areas for 15 minutes and then wash it off with cold water.

● Baking soda – Prepare a mixture of equal parts of baking soda and water and rub it onto your face or other body areas prone to blackheads. Leave it on for 15 minutes and then rinse it off with warm water.

● Honey is also good for removing blackheads. Spread honey on the affected area and remove it after 15 minutes.

Remember – Be gentle to your skin. Never pinch, scrape, poke, press, or squeeze too hard!

How To Eat? an Ayurveda View on भोजन सम्बन्धी कुछ नियम

भोजन सम्बन्धी कुछ नियम-

१ पांच अंगो ( दो हाथ , २ पैर , मुख ) को अच्छी तरह से धो कर ही भोजन करे !
२. गीले पैरों खाने से आयु में वृद्धि होती है !
३. प्रातः और सायं ही भोजन का विधान है !
४. पूर्व और उत्तर दिशा की ओर मुह करके ही खाना चाहिए !
५. दक्षिण दिशा की ओर किया हुआ भोजन प्रेत को प्राप्त होता है !
६ . पश्चिम दिशा की ओर किया हुआ भोजन खाने से रोग की वृद्धि होती है !
७. शैय्या पर , हाथ पर रख कर , टूटे फूटे वर्तनो में भोजन नहीं करना चाहिए !
८. मल मूत्र का वेग होने पर , कलह के माहौल में , अधिक शोर में , पीपल , वट वृक्ष के नीचे , भोजन नहीं करना चाहिए !
९ परोसे हुए भोजन की कभी निंदा नहीं करनी चाहिए !
१०. खाने से पूर्व अन्न देवता , अन्नपूर्णा माता की स्तुति कर के , उनका धन्यवाद देते हुए , तथा सभी भूखो को भोजन प्राप्त हो इस्वर से ऐसी प्राथना करके भोजन करना चाहिए !
११. भोजन बनने वाला स्नान करके ही शुद्ध मन से , मंत्र जप करते हुए ही रसोई में भोजन बनाये और सबसे पहले ३ रोटिया अलग निकाल कर ( गाय , कुत्ता , और कौवे हेतु ) फिर अग्नि देव का भोग लगा कर ही घर वालो को खिलाये !
१२. इर्षा , भय , क्रोध , लोभ , रोग , दीन भाव , द्वेष भाव , के साथ किया हुआ भोजन कभी पचता नहीं है !
१३. आधा खाया हुआ फल , मिठाईया आदि पुनः नहीं खानी चाहिए !
१४. खाना छोड़ कर उठ जाने पर दुबारा भोजन नहीं करना चाहिए !
१५. भोजन के समय मौन रहे !
१६. भोजन को बहुत चबा चबा कर खाए !
१७. रात्री में भरपेट न खाए !
१८. गृहस्थ को ३२ ग्रास से ज्यादा न खाना चाहिए !
१९. सबसे पहले मीठा , फिर नमकीन , अंत में कडुवा खाना चाहिए !
२०. सबसे पहले रस दार , बीच में गरिस्थ , अंत में द्राव्य पदार्थ ग्रहण करे !
२१. थोडा खाने वाले को –आरोग्य , आयु , बल , सुख, सुन्दर संतान , और सौंदर्य प्राप्त होता है !
२२. जिसने ढिढोरा पीट कर खिलाया हो वहा कभी न खाए !
२३. कुत्ते का छुवा , रजस्वला स्त्री का परोसा , श्राध का निकाला , बासी , मुह से फूक मरकर ठंडा किया , बाल गिरा हुवा भोजन , अनादर युक्त , अवहेलना पूर्ण परोसा गया भोजन कभी न करे !
२४. कंजूस का , राजा का , वेश्या के हाथ का , शराब बेचने वाले का दिया भोजन कभी नहीं करना चाहिए !

Dr.Jigar Gor 's Ayurveda Clinic, Bhuj, Gujarat

What is Authentic Ayurveda? How one can get it?

So many people asking me about the authentication of Ayurveda, how we can get the real Ayurveda medication and treatments?

Such questions arise because so many fake people and medicines are in the market booming right now. And a single incident from fake Ayurveda medicine or fake Ayurveda doctor destroys the trust of patient completely. Such things should not be done in society. So here is some brief ideas about Authentic Ayurveda…

well,  according to me Real authentic Ayurveda doctor or its center don’t do any kind of Show off, i seen so many authentic Ayurveda Doctors who dont have good set up (due to der personal reason), but they are very much dedicated to Ayurveda n very knowledgeable too. Having good interior office or such set up is not wrong, but along with that real authentic Ayurveda doctor is essential.

Ayurveda is not spa or massage therapy…Its unique science with its unique rules of diagnosis and treatments. So Ayurveda Doctor don’t insist for the spa therapy ever. Ayurveda and Spa is different thing completely.

Real Ayurveda doctor must be BAMS (Bachelor of Ayurveda Medicine and Surgery) degree holder and registered at State Ayurveda Council Board. So never ever go the fake doctors who juz done diploma in any related subject or Ayurveda named subject, or who are not BAMS degree holder.

An authentic Ayurveda doctor must diagnose the patient with Ayurveda protocol, Q&A session, and the other examinations. Then he does Diagnosis of Disease, Diseased Person and his/her Prakrutti.

According to the Ayurveda Diagnosis, he prescribes genuine Ayurveda medicines, advice Diet regulations as per diseases and body constitutes. And WHEN NEEDED he advise Panchkarma Therapies for that particular diseases.

Some fake doctors mix the allopathic medicine in herbs powders, that’s very wrong mode of practice. one can get good result from the medicine of Ayurveda but to get the relief in chronic diseases it takes minimum 7days of course with diet  follow up. If you find the miraculous result after eating one dose of any Ayurveda medicine, find it suspicious. Ayurveda is science its not magic which can decrease your chronic symptoms directly after one dose of it.  If you feel suspicious take the advice of other doctors and if necessary do the laboratory checkup at nearby laboratory.

People who are not qualified but claiming to have knowledge of Ayurveda from their elders / whose elders are Ayurveda doctors are also fake sometimes, so called Vaidyababa from Himalayas or so called spiritual baba or the person who claims to treat all kind of disease perfectly are also fake one. They can’t able to treat patients perfectly as they don’t gain the knowledge of it properly.

Panchkarma therapy (nowadays it’s called DETOXIFICATION – MASSAGE THERAPY) is only advised when it is essentially needed, if there is possibilities of healing via herbs n such internal medicines then there is no need of Panchkarma process.While giving such therapies to patient Genuine aurveda doctor confirms all the things including Prakrutti of patient and disease, age , current season and such so many factors.  According to me that so called packages of Panchkarma and only straight approach of Panchkarma are useless and not worthy at all.

Don’t buy any Ayurveda products directly after watching advertisements, ads in TVs, newspapers or in magazines are just way of marketing to sell their products. Remember Ayurveda is the science, its not a Health supplements. There is different medication for every individual.

To recognize fake person in this marketing era is difficult. So always consult Authentic Ayurveda Doctor and buy the medicine according to given advises. Self-medication may be not result oriented and may cause side effects too.

These are just examples where a patient can be cheated. So many loop holes are there in medical field. Both, Doctor and patient are responsible, and both can be capable to eradicate fake Ayurveda from society.

I am sure taking Ayurveda medicine from an authentic person of Ayurveda will bring healthy harmony in your life.

Dr,Jigar Gor 's Ayurveda in Gujarat

आधारभूत और सही आयुर्वेद क्या है ? कैसे हम इसे पा सकते हैं ??

बहोत सारी  बार अनेक पेशंट और लोग मुजे पूछते रहते हैं की आजकल सही आयुर्वेद का ट्रीटमेंट कैसे पाया जाये?

यह प्रश्न हर एक को हो सकता है क्यूँ की बिन आधारभूत / अनक्वालिफाइड डॉक्टर्स और आयुर्वेद के नाम पे मिलती (लेकिन आयुर्वेद की न हो वैसी ) दवाइयों से कई लोगो की जेब कटी  है और उनके स्वस्थ्य को हानि पहोंची है . इस तरह का एक ही प्रसंग पेशंट का आयुर्वेद पर का विश्वास तोड़ मरोड़ के रख देता है . आयुर्वेद को रोकने का या आयुर्वेद के नाम पे कम लेने का यह एक गलत षड़यंत्र चल रहां है जो की जरा भी सराहने लायक  नहीं है

यहाँ कुछ आयुर्वेद के सम्बन्धी बैटन का आपसे ध्यान रखने का अनुरोध करता हूँ –

मेरे मुताबिक , आयुर्वेद के सही डॉक्टर या सेंटर पे किसी भी प्रकार का दिखावा या आडम्बर नहीं होता है I  आच ऑफिस या इंटीरियर का होना गलत नै है लेकिन उसके साथ साथ क्वालिफाईद आयुर्वेद डॉक्टर का होना बहोत ही मायने रखता है I

दूसरी एक बात हमेंशा ध्यान में रखें की आयुर्वेद और स्पा थेरेपी या मसाज थेरेपी बिलकुल अलग अलग हैं I अगर कोई आयुर्वेद का डॉक्टर आपको स्पा लेने के लिए कहते है तो वो आयुर्वेद थेरेपी आपको नहीं दे रहे हैं इसका ध्यान रखें I

आयुर्वेद का डॉक्टर बी ऐ ऍम एस की डिग्री का धारक होता है और उस डिग्री का पंजीकरण राज्य के आयुर्वेद काउंसिल बोर्ड में हुआ होना आवश्यक है I इस तरह कभी भी उन डॉक्टर्स के पास ना जाएँ जिनके पास ये डिग्री नहीं है या फिर  जो केवल आयुर्वेद के नाम जैसी डिप्लोमा डिग्री दहरना किए हैं I

आयुर्वेद  का सच्चा डॉक्टर आपने पेशंट का निदान आयुर्वेद की पद्धति से करता है, आपको आपके ख्हाँ पान और जीवन शैली के प्रश्न पूछता है और अन्य तापस करके आपका , आपके रोग का और आपकी प्रकृत्ति का निदान करता है I  उसके हिसाब से आपको सही आयुर्वेद द्वाइयन सूचित करता है और खान-पान-जीवन शैल्ली में क्या तब्दीलियाँ  लानी हो वो भी सूचित करता है I अगर जरूरत हो तो आपको पंचकर्म थेरेपी के बारे में सम्जाकर उसे लेने का परामर्ष भी देता है I

कुछ गलत डॉक्टर आयुर्वेद के नाम पर विदेशी दवाइयां चूर्ण में मिलावट करके देते है , आयुर्वेद की कोई भी दवाई से एक ही बार की खुराक से चमत्कारिक या आश्चर्य जनक परिणाम नहीं मिलते , आयुर्वेद में परिणाम निश्चय ही मिलते हैं लेकिन पुराने रोगों में राहत मिलने के लिए कम से कम 7 दिन का समय लगता है I आयुर्वेद एक विज्ञान है कोई जादू नहीं है,आपके पुराने रोग में अगर आप कोई आयुर्वेद दवाई की एक ही खुराक से फर्क पड़ता है तो शायद उसमे कोई मिलावट हो सकती है I  अगर कभी भी आपको इस के बारे में आशंका  हो तो आपको मिली दवाई का लेबोरेटरी में जांच करवा सकते हैं या अन्य क्वलिफैएड आयुर्वेद डॉक्टर से सलाह ले I

जो लोग क्वालीफाई आयुर्वेद डॉक्टर नहीं है लेकिन पीढ़ियों से आयुर्वेद का उपचार कर रहे हैं या कहेने वाले वैद्य बाबा जो तम्बू डालके हिमालय से आनेवाले डॉक्टर बैठे हैं , या ऐसे डॉक्टर जो विशेष चमत्कार आयुर्वेद से करने का दावा करते है ये सभी लोग आयुर्वेद के नाम से लोगों को लुटने का धंधा करते है, करुय ऐसे लोगों के पास न जाएँ I ये लोग कभी भी अच्छे से उपचार नहीं कर सकते हैं I

पंचकर्म थेरेपी जो की आजकल मसाज थेरेपी से ज्यादा प्रचलित है I जब आयुर्वेद की औषधि से परिणाम मिलने वाला तय हो तब पंचकर्म की कोई आवश्यकता नहीं होती है, ये थेरेपी तब ही की जाती है जहाँ उसकी महत्तम जरुरत हो , और वह भी रुग्ण की प्रकृत्ति, उम्र, रोग की प्रकृत्ति अ, वह समय की ऋतू और ऐसे कई सारे मुद्दों पे धयन देकर ही पंचकर्म थेरेपी की सुनिस्चिती की जाती है I मुजे ऐसा लगता है की आज कल दिए जाने वाले पंचकर्म के पकेजिस से कोई भी फायदा नहीं  मिलता है I

और एक महत्व पूर्ण बात करना चाहूँगा की, किसी मेगेज़ीन /न्यूज़ पेपर या टीवी में दिखाए जाने वाले एड  या कोई बाबा के कहेने से प्रेरित होकर, उन के बहेकावे में भावुक होकर कभी भी आयुर्वेद दवाइयां न ले I आयुर्वेद की औषध हर एक व्यक्ति को समान रूप से लागु नहीं होती है I आयुर्वेद की साइड एफ्फेक्ट्स नहीं है ऐस्सा सोच कर बिना किसी सही डॉक्टर की सलाह के बिना सीधे ही मेडिकल स्टोर से आयुर्वेद औषधि लेकर उन का सेवन भी न करे Iखुद ब खुद आयुर्वेद औषध लेने से कभी भी फायदा नहीं मिलता है ये सब ही बातें आपको गलत दिशां में लेकर जाएँगी I आयुर्वेद एक शास्त्र है –  विज्ञान है ,सिर्फ आरोग्य पूरक टोनिक नहीं है ये ध्यान में रखें I

आज कल के मार्केटिंग और तकनिकी युग में गलत आदमी को पहचानना बहोत मुश्किल है लेकिन नामुमकिन नहीं है .
I डॉक्टर और पेशंट दोनों की यह जिम्मेदारी रहेगी की सही आयुर्वेद का समर्थन करे और सही आयुर्वेद अपनाकर जहाँ पे आयुर्वेद के नाम पे गलत हो रहा हो उसका बहिस्कार करके उसके खिलाफ आवाज़ उठायें I

मुजे आशा है की सही आयुर्वेद के डॉक्टर के पास से सही आयुर्वेद ट्रीटमेंट लेकर आपके जीवन में सही स्वस्थ्य हमेशा बना रहेगा ….

Heart is the main support beam

In Ayurveda the heart is considered the “seat” of consciousness. The master Ayurvedic source text, the Charaka Samhita states, “hridaye chetana sthanam.” Translated it means, “the seat of consciousness is in the heart.”

The Ayurvedic texts also describe the heart as “Hrdaya.” b652aa646096a50a643371592e7c9578
This Sanskrit word consists of three parts — each with its own meaning:
Hr means to receive,
Da to give, and
Ya to move.

The essential qualities of the heart are contained within this Sanskrit name – receiving, giving and moving.
It is further described as Mahata – great,
and Artha – serving all purposes,
meaning in Ayurveda that it is an organ with a variety of important functions.
The texts of Charaka go on to describe the heart as, “indispensable for all mental and physical activities,” because the entire sense perception, in total, depends on the heart.
It is further described as Pranayatana —the seat of consciousness and the mind.
So important is the heart in Ayurveda that it is considered like the main support beam in a house; without that support, the house collapses.
Ayurvedic therapies help restore the connection between heart, mind and self. They include dietary, herbal, behavioral and environmental tactics that allow one to become more established in Sattva – a state of stable, enduring balance and happiness – sometimes described as a field of bliss.

आयुर्वेद शास्त्र में ह्रदय को चेतना का स्थान गया है I चरक आचार्य कहेते हैं की ह्रदय चेतना स्थानम I ह्रदय के अक्षर का मत्लब ही कुछ ऐसा होता है –

‘ ह्र ‘ का मतलब – लेना – ग्रहण करना ,
‘ द ‘ का मतलब – देना , और
‘ य ‘ का मतलब – गति या चालित करना

ह्रदय को महत और अर्थ भी कहा गया है, जिसका सीधा मतलब महान और जो सब कार्य करता है ऐसा होता है , इस तरह ह्रदय एक साथ बहोत सरे कार्यों का भार निभाता है I

चरक कहेते हैं की मानसिक अवं शारीरिक गतिविधिओं से ह्रदय को अलग करना नामुमकिन है, क्यूंकि सभी संवेदनाओ को लेना – ग्रहण करना , देना -भेजना या चलायमान रखना ये सभी कार्य ह्रदय में ही होते हैं I
ह्रदय को ” ” प्राणायतन ” भी कहा है , इस तरह ह्रदय शरिर का मुख्या आधारस्तंभ है, जिसके बिना पूरा घर – शरीर गिर जाता है I

आयुर्वेद की चिकित्सा से ह्रदय – मन अवं शारीर का योग्य संतुलन बना रहेता है , इस चिकित्सा में खान पान हर्बल आयुर्वेदिक औषधे और हमारी रेहान सेहन का मुख्य भाग रहता है, इन सबसे शरीर में ‘ सत्वित्कता ‘ निर्माण होती है जो की शारीर के सभी अवयवों का तालमेल बना कर अच्छा स्वस्त्य प्रदान करती है I

Why Children are UNDERNOURISHED nowadays???

“Undernourishment” is found more in metro cities then in rural areas, due to bad habits of eating in children.
Mostly children take meal while watching TV,
According to Ayurveda its totally contraindicated.
When your mind is busy somewhere you cant pay attention on taste-smell of food.
And thus the chemical process in-between mind and stomach-liver and bile duct will not occur in a manners.

Moreover generally children taking noodles, packed food , bakery items or junk food.
These packed food or instant food have zero nutrition values, besides that parents get shy of relief that their child is eating and stomach is full, but HOW n WHAT he is  eating that no body thinks for a second. 153159-child-watching-tv
Resulting poor nutrition, malnutrition, excessive fat, poor brain
developments.poor development of mind, poor immunity and re-currents infection.
Such things always hamper developments of Child in their max-development age.
Ayurveda lifestyle n medication can be more safest option in child care nowadays.
खान पान के अत्यंत गलत तरीकों से आजकल ग्रामीण विस्तारों से ज्यादा शहेरी विस्तारों के बच्चों में पोषक तत्वों की कमी ज्यादा पाई जा रही है I
ज्यादातर बच्चे भोजन लेते वक़्त टीवी देखेने की भयानक आदत रखते है, इसके साथ ज्यादातर माता पिता अपने बच्चों को इंस्टेंट नूडल्स या जन्क फ़ूड या फिर मेन्दे के खुराक ही देती है I
जिनकी नुट्रीशियन वैल्यू ज्यादतर शुन्य है।
आयुर्वेद के नजरिये से यह बिलकुल सही नहीं है I
भॊजन करते वक़्त अगर आपका ध्यान टीवी या मोबाईल या एनी किसी जगह है तो आप भोजन का स्वाद / रस या सुगंध महसूस नहीं कर सकते,
जिसके कारन आपके शारीर में पाचन के लिए होने वाले योग्य बदलाव नहीं होते है।
और इन सभी कारणों की वजह से बच्चों में पोषक तत्वों की कमी, बार बार बीमार गिरना, अक्सर खांसी-कफ या पेट की शिकायत करना , विकास के महत्वपूर्ण मापदंड न पाना, मानसिक विकास न होना  जैसे कई सारी  तकलीफों से बच्चा आक्रांत रहेता है I

और इन सब तकलीफों के लिए तुरन्त एन्टी बायोटिक्स के या सिंथेटिक विटामिन / या अन्य के सिरुप देने से उनके स्वस्थ्य को हम ज्यादा नुक्सान पहोंचा रहे है I
याद रहे छोटी मोती तकलीफों में हानिकारक औषधे देने से बच्चों का विकास नहीं हो सकता , ऐसे समय में निर्दोष आयुर्वेद औषध ज्यादा लाभकर होती है I

luna-marie-2-600x450